Custom Search

मेहनत करने से दरिद्रता नहीं रहती, धर्म करने से पाप नहीं रहता, मौन रहने से कलह नहीं होता |

- चाणक्य


यदि मार्ग काँटों भरा हो, और आप नंगे पांव हो तो रास्ता बदल लेना चाहिए|

- चाणक्य


सारा हिन्दुस्तान गुलामी में घिरा हुआ नहीं है। जिन्होंने पश्चिमी शिक्षा पाई है और जो उसके पाश में फँस गए हैं, वे ही गुलामी में घिरे हुए हैं।

-महात्मा गाँधी


सत्य से कीर्ति प्राप्त की जाती है और सहयोग से मित्र बनाए जाते हैं।

-कौटिल्य अर्थशास्त्र


ख्याति नदी की भाँति अपने उद्गम स्थल पर क्षीण ही रहती है किंदु दूर जाकर विस्तृत हो जाती है।

-भवभूति


सबच्चों को पालना, उन्हें अच्छे व्यवहार की शिक्षा देना भी सेवाकार्य है, क्योंकि यह उनका जीवन सुखी बनाता है।

-स्वामी राम सुखदास


जैसे सूर्य आकाश में छुप कर नहीं विचर सकता उसी प्रकार महापुरुष भी संसार में गुप्त नहीं रह सकते।

-व्यास


सौंदर्य और विलास के आवरण में महत्त्वाकांक्षा उसी प्रकार पोषित होती है जैसे म्यान में तलवार।

-रामकुमार वर्मा


मनुष्य का पतन कार्य की अधिकता से नहीं वरन कार्य की अनियमतता से होता है |

- अज्ञात


विश्वास वह पक्षी है जो प्रभात के पूर्व अंधकार में ही प्रकाश का अनुभव करता है और गाने लगता है|

- रवींद्रनाथ ठाकुर


क्रोध ऐसी आँधी है जो विवेक को नष्ट कर देती है|

- अज्ञात


तपस्या धर्म का पहला और आखिरी कदम है |

-महात्मा गांधी


किसी को माफ़ करना कमजोरी नहीं वरन सामर्थ्यवान ही ऐसा कर सकता है |

-महात्मा गाँधी


सत्याग्रह बल से नहीं ,हिंशा के त्याग से होता है |

-महात्मा गाँधी


अपने को संकट में डाल कर कार्य संपन्न करने वालों की विजय होती है, कायरों की नहीं|

- जवाहरलाल नेहरू


वाणी के बजाय कार्य से दिए गए उदहारण कहीं ज्यादा प्रभावी होते हैं.|

-अज्ञात


हर आदमी कहता है की मैं अच्छा हूँ, लेकिन लोग क्या मानते हैं यह महत्वपूर्ण है |

- अज्ञात


मनुष्य का सबसे बड़ा यदि कोई शत्रु है तो वह है उसका अज्ञान|

- चाणक्य


हज़ार योद्धाओं पर विजय पाना आसान है, लेकिन जो अपने ऊपर विजय पाता है वही सच्चा विजयी है|

- गौतम बुद्ध


अपनी पीड़ा सह लेना और दूसरे जीवों को पीड़ा न पहुंचाना, यही तपस्या का स्वरूप है|

-संत तिरुवल्लुवर


इच्छाएं ही सब दुखों का मूल कारण है|

- भगवान बुद्ध


अकर्मण्यता के जीवन से यशस्वी जीवन और यशस्वी मृत्यु श्रेष्ठ होती है।

-चंद्रशेखर वेंकट रमण


सारा जगत स्वतंत्रता के लिए लालायित रहता है फिर भी प्रत्येक जीव अपने बंधनो को प्यार करता है।

- श्री अरविंद


खुद के लिये जीनेवाले की ओर कोई ध्यान नहीं देता पर जब आप दूसरों के लिये जीना सीख लेते हैं तो वे आपके लिये जीते हैं।

- श्री परमहंस योगानंद


जिस प्रकार जल कमल के पत्ते पर नहीं ठहरता है, उसी प्रकार मुक्त आत्मा के कर्म उससे नहीं चिपकते हैं।

--छांदोग्य उपनिषद


जो सभी का मित्र होता है वो किसी का मित्र नहीं होता |

- ओशो


अछे सब्दों के प्रयोग से बुरे लोगों का भी दिल जीता जा सकता है|

- भगवान बुद्ध


मुठ्ठी भर संकल्पवान लोग जिनकी अपने लक्ष्य में दृढ़ आस्था है, इतिहास की धारा को बदल सकते हैं|

- महात्मा गांधी


सबसे उत्तम तीर्थ अपना मन है जो विशेष रूप से शुद्ध किया हुआ हो

-स्वामी शंकराचार्य


कामनाएँ समुद्र की भाँति अतृप्त हैं। पूर्ति का प्रयास करने पर उनका कोलाहल और बढ़ता है।

-स्वामी विवेकानंद


कुमंत्रणा से राजा का, कुसंगति से साधु का, अत्यधिक दुलार से पुत्र का और अविद्या से ब्राह्मण का नाश होता है।

- विदुर


जिस प्रकार बिना जल के धान नहीं उगता उसी प्रकार बिना विनय के प्राप्त की गई विद्या फलदायी नहीं होती।

-भगवान महावी


शासन के समर्थक को जनता पसंद नहीं करती और जनता के पक्षपाती को शासन। इन दोनो का प्रिय कार्यकर्ता दुर्लभ है।

- पंचतंत्र


बुद्धि के सिवाय विचार प्रचार का कोई दूसरा शस्त्र नहीं है, क्योंकि ज्ञान ही अन्याय को मिटा सकता है।

- शंकराचार्य


क्रोध में मनुष्य अपने मन की बात कहने के बजाय दूसरों के ह्रदय को ज्यादा दुखाता है।

-मुंसी प्रेमचंद


पुरुषार्थ से दरिद्रता का नाश होता है, जप से पाप दूर होता है, मौन से कलह की उत्पत्ति नहीं होती और सजगता से भय नहीं होता।

- चाणक्य


कर्म, ज्ञान और भक्ति का संगम ही जीवन का तीर्थ राज है |

-दीनानाथ दिनेश


सत्य से बड़ा तो इश्वर भी नहीं |

- महात्मा गाँधी


ऐसे देश को छोड़ देना चाहिए जहाँ धन तो है लेकिन सम्मान नहीं|

-विनोबा


कायर आदमी अपनी मौत से पहले न जाने कितनी बार मरता है |

- अज्ञात


मानव जीवन धूल की तरह होता है, हम इसे रो-धोकर इसे कीचड़ बना देते हैं।

-बकुल वैद्य


उठो जागो और लक्ष्य तक मत रुको|

-स्वामी विवेकानंद


ब्रह्माज्ञानी को स्वर्ग तृण है, शूर को जीवन तृण है, जिसने इंद्रियों को वश में किया उसको स्त्री तृण-तुल्य जान पड़ती है, निस्पृह को जगत तृण है

-चाणक्य


दो की दोस्ती में एक का धर्य जरुरी है |

-अज्ञात


लोग चाहे मुट्ठी भर हों, लेकिन संकल्पवान हों, अपने लक्ष्य में दृढ आस्था हो, वे इतिहास को भी बदल सकते हैं

-महात्मा गाँधी


मन एक भीरु शत्रु है जो सदैव पीठ के पीछे से वार करता है|

- प्रेमचंद

We have 69 guests and no members online